सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

मां

 मा से मंदिर म से मस्जिद म से मजहब म से मानवता म से ही मर जाना है म मकबरा म से मदीना म से ही ममता दिखे सब कुछ मां से जुड़ा है मां तुम्हे प्रणाम🙏
हाल की पोस्ट

प्यार हुआ तुमसे

 आते हैं तेरे दिल में आते ही रहेंगे तू कितना भी कर ले नामंजूर सताते रहेंगे मार डाल या,,,जीना भूलादे मुझे पर,,,जब होगी उदास तू तुझे हंसात,,,रहेंगे

विश्व में प्रकृती,,,post.no.2

एक विश्व हे,,, हम भी एक हे। प्रकृति ने हमे बनाया है उस प्रकृति को सता रहे है प्राणी ने अधर्म अपनाया है,,, प्रदूषण ,,पर्यावरण क्र रहे,, पेड़ पौधों को काट रहे,,,, उनका जीवन ख़त्म हो रहा। भविष्य,,,,, हमारा भी संकट में आया है कहि कारखाने चलें अंधाधुंध,, कई लोगों ने,,,, प्रकृति को भी झुकाया हे,,,, खुद की मौज में डूब गए हो प्रकृती को सरमाया हे,,, एक दिन ऐसा आएगा  तुम धुड़ोगे आसमान को  बो,,नजर कही न आयेगा फिर रोयोगे, चिल्लाओगे  कहि नजर न आयेगी,,, कहोगे प्रकृति ने हमे ठुकराया हे विश्व के सभी नागरिक बंधुओ प्रकृति को भी ,,,जीने का अदिकार दें एवं जिंदगी में उसका कभी प्रदूषण ना फैलाएं,,, प्रकृती सुधारने एवं संजो क्र रखना हमारा कर्त्तव्य है धन्यवाद

बेटियाँ

बेटीयाँ---- हम सब की जान हैं बेटियां हम सब का अरमान हैं बेटीयाँ भ्रूण हत्या कर देते हैं लोग,,,, अशिक्षित इन्हे रखते है लोग,,, दहेज़ से प्रताड़ित करते हैं लोग भूल जाते हैं,,,,, लोग,,,, अश्लील निगाहों से देखते हैं जिन्हें,, वही,,---हम सब की पहचान हैं बेटियां,,, भारत का सम्मान हैं बेटियां,,,,,